गुजरात के मिल – मजदूरों का मिल – मालिकों के विरूद्ध आन्दोलन – अहमदाबाद आन्दोलन ( 1918 )

1918 का अहमदाबाद आन्दोलन एक महत्त्वपूर्ण आन्दोलन हैं , जिसमें गाँधी जी ने मिल मालिकों के विरूद्ध मजदूरों के हितो के रक्षार्थ आन्दोलन किया | अहमदाबाद आन्दोलन का मुख्य कारण मिल - मालिकों द्वारा मजदूरों को दिए जाने प्लेग बोनस को समाप्त करना था |

गुजरात के किसानों का सरकार के विरूद्ध आन्दोलन – खेड़ा आन्दोलन ( 1918 )

किसान आन्दोलन के इस कड़ी में गुजरात के खेड़ा जिले के किसानो द्वारा किए गए आन्दोलन को जानेंगे , जिसका नेतृत्व गाँधी जी ने किया | यह महात्मा गाँधी जी का प्रथम वास्तविक किसान सत्याग्रह था | खेड़ा आन्दोलन गुजरात के खेड़ा जिले में 22 मार्च 1918 ई० को प्रारम्भ हुआ |

तिनकठिया पद्धति के विरूद्ध बिहार के किसानों का आन्दोलन – चम्पारण सत्याग्रह ( 1917 )

चम्पारण सत्याग्रह गाँधी जी द्वारा भारत में सत्याग्रह के प्रयोग का प्रथम प्रयास था | वस्तुत: चम्पारण सत्याग्रह बिहार में 'तिनकठिया पद्धति' के विरूद्ध किसानो का आन्दोलन था | चम्पारण सत्याग्रह केवल बिहार तक ही सीमित था |

दक्षिण भारत का दक्कन विद्रोह ( 1874 – 75 )- भारत का इतिहास

किसान आन्दोलन के इस अध्याय में दक्षिण भारत में अपनी आर्थिक मांगो को लेकर महाजनों एवं जमींदारों के विरूद्ध हुए उपद्रव के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे | इससे पूर्व हमने अन्य किसान आन्दोलन जैसे रामोसी आन्दोलन , मोपला विद्रोह , नील विद्रोह एवं पाबना विद्रोह के जानकारी प्राप्त की |

पाबना विद्रोह ( 1873 – 85 ) – किसान आन्दोलन

पाबना विद्रोह का मुख्या कारण जमीदारों द्वारा लगान की सीमा को जादा बढ़ाना था | यहाँ आन्दोलन किसानो द्वारा पश्चिम बंगाल के पाबना जिले में हुआ था

नील आन्दोलन ( Indigo Movement ) – भारतीय इतिहास

नील आन्दोलन भारतीय इतिहास में किसानो का सफल पहला आन्दोलन था जिसने आगे और अपनी मानगो को पूरा करने और जमीदारों, साहुकारो के विरुद्ध आवाज उठाने की उत्साह दि | पश्चिम बंगाल के किसानो का यह सफल प्रयास पुरे भारत के किसानो के लिए एक प्रेरणा बन गयी

ब्रिटिश भारत में साम्राज्यवादी प्रसार और उनके प्रभाव तथा किसान आन्दोलन

गुलाम भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवादी निति, उनके प्रसार तथा प्रभाव, किसान आन्दोलन क्या था और उनका क्या प्रभाव हुआ? किसान आन्दोलन के प्रमुख कारण क्या थे और उनका परिणाम क्या हुआ तथा इसने भारतीय समाज को कितना और कहा तक प्रभावित किया...

वैदिक सभ्यता और समाज, धर्म, राजनीति – Vedic Culture

वैदिक सभ्यता और समाज, धर्म, राजनीति, साहित्य इत्यादि का विस्तृत अध्यन | इनकी प्रमुख भाषा संस्कृत थी तथा ये इनका समयकाल 1500 ईसा पूर्व माना जाता है | इनका प्रमुख व्यवसाय कृषि था अर्थात इनकी सभ्यता कृषि प्रधान थी | गाय इनकी प्रिय पशु थी |

  • 1
  • 2
Close Menu